Home GLOBAL NEWS एक करोड़ की फिरौती के लिए अगवा दिल्ली के एलआईसी एजेंट की...

एक करोड़ की फिरौती के लिए अगवा दिल्ली के एलआईसी एजेंट की हत्या II Focus Samachar 7

150
0
SHARE

New Delhi, दिल्ली के सराई रोहिल्ला से एक करोड़ की फिरौती के लिए LIC एजेंट को अगवा कर हत्या कर दी। मृतक की शिनाख्त प्रेम कुमार के रूप में हुई है। सूत्रों से यह पता चला है की ये सारा षड्यंत्र UP पलिस के एक कर्मचारी व आर पी फ के एक जवान की द्वारा रचा गया है।

आर पी फ के जवान अजय जिनकी उम्र 35 वर्ष है उनको गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी की निशानदेही पर प्रेम का शव इटवा, UP स्तिथ गंग नहर से बरामद किया है। शव को एक बक्से में डाल कर नहर में फेंका गया था।

किसी को शव की पहचान न हो पाए इस लिए शव का मुँह कुचल दिया गया था और वारदात के बाद से ही UP पुलिस का कर्मचारी फर्रर है। पुलिस का कहना है की सर्वेश अलीगढ के बनना देवी ठाणे में तैनात है।

पूछत्ताछ के मुतबिक प्रेम वेस्ट मोती बाघ इलाके के रहने वाले थे। परिवार में पिता रमेश चंद्र, माँ मुक्तेश्वरी देवी बड़ा भाई राजकुमार और दो बेहेने है। प्रेम कुमार और उसके पिता दोनों ही LIC एजेंट थे। जबकि उनका भाई राजकुमार दिल्ली के एक बैंक में असिस्टेंट मैनेजर है।

अजय आरपीफ दिल्ली स्तिथ सराई रोहिल्ला में तैनात है और वह प्रेम के पुराने ग्राहक भी थे। 17 जुलाई को अजय ने प्रेम को कॉल किया था और कहा था की डेल्हो पुलिस में तैनात मेरे एअक दोस्त को 1 करोड़ की बीमा पालिसी करनी है।

एक करोड़ की पालिसी को ले के प्रेम कुमार भीब उत्साहित था और उसने ये बात अपने परिवार को भी बताई थी 18 तारीख को सब कागजाद देने के बाद अगले दिन मिलने की बात तय हुई पर अगले दिन यानि 19 को जब प्रेम कुमार वह गए पर वापिस न लौटे।

मोबाइल बंद होने पर परिजनों ने देर रात को इंदरलोक ठाणे में रिपोर्ट करवाई। पुलिस की छानबीन के दौरान प्रेम कुमार की बुलेट बाइक अजय के घर के बाहर मिली और परिजनों ने अजय और सर्वेश पर हत्या का का शक जताया।

20 जुलाई को जब अजय को पहुचताच के लिए बुलाया तो तो पहले तो उसने पुलिस को गुमनाम करने की कोशिश की पर बाद में जब वह टूट गया तो उसने बताय की वे प्रेम को अगवाह करके फिरौती मांगने वा ले थे। पहले तो उससे बंधक बनाने का प्रयास किया पर जब उसने भागने की कोशिश की तो रस्सी से उसका गला ढाबा कर उसको मार दिया।और दोनों ने मिल के शव को लोहे के डब्बे में डाल के बंद कर दिया था अथवा शव की शिनाख्त न हो पाए इसलिए शव का चेहरा कुचल दिया था और रात को इटावा की गंग नहर में फेंक दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here